भारत-नेपाल सीमा पर सक्रिय हुए शराब माफिया

सुपौल। भारत के खास त्योहार होली आने में कुछ ही दिनों का समय बाकी है। ऐसे में बिहार में शराबबंदी होने के कारण होली को रंगीन करने के लिए भारत-नेपाल सीमा पर शराब माफिया ज्यादा सक्रिय हो गए हैं। होली मनाने के लिए शराब माफिया नेपाल से लगातार शराब की खेप मंगा रहे हैं। पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है बावजूद इसके शराब की खेप जिले मे विभिन्न माध्यम से शराब के माफिया अब भी पहुंचा रहे हैं।

बताया जाता है कि इंडो-नेपाल के सीमावर्ती गांव इन दिनों शराब माफिया का केन्द्र बना हुआ है। शहर से लेकर गांव तक शराब माफिया होली के मौके पर शराब की डिलेवरी करने के लिए अभी से ही पैसे लेकर शराब मंगवा रहे हैं। शराब के अवैध धंधे में भारी मुनाफा को देखते हुए शराब माफिया के साथ-साथ अपराधियों ने भी इस क्षेत्र में कदम रख दिया है। अपराधियों के इस धंधे मे आ जाने से लोग उनके खिलाफ मुंह खोलने को तैयार नहीं हो रहे हैं। इसके कारण इंडो -नेपाल के सीमावर्ती थाना और ओपी क्षेत्र मे आज भी खुलेआम शराब कि बिक्री हो रही है।

सीमावर्ती थानाक्षेत्र की पुलिस इस दिशा में ठोस कार्रवाई करना नहीं चाहती है। इंडो-नेपाल के सीमावर्ती डगमारा थाना क्षेत्र के राजपुर गांव शराब तस्कर का केन्द्र बन गया है। होली में शौकीनों की गला तर करने के लिए शराब माफिया राजपुर गांव के रास्ते,लालापट्टी बांध होकर, कमलपुर के मरनीया नदी के रास्ते के साथ-साथ शांतिवन और बेरियाघाट सहित दर्जनों रास्ते से शराब कि तस्करी कर जिले में शराब का भंडारण करने में लगे हैं। इस काम को अंजाम देने के लिए माफिया खुद तो तेजी से काम कर ही रहे हैं साथ ही महिलाओं और छात्रों को बहला-फुसलाकर उनके जरिए भी काम करवा रहे हैं।

वहीं इस मामले पर थाना प्रभारी संतोष कुमार का कहना है कि शराब को लेकर लगातार छापेमारी जारी है। पुलिस किसी भी हाल में शराब माफिया के मंसूबे को कामयाब नहीं होने देगी। होली को लेकर विशेष चौकसी बरती जा रही है ।