मैनपुरी में अखिलेश ने मोदी को याद दिलाए उनके वादे

मैनपुरी। उत्तर प्रदेश में 2 चरणों के मतदान खत्म हो चुके हैं। अब सभी पार्टियां तीसरे चरण के चुनावों की तैयारियों में जुट गई है। तीसरे चरण की तैय़ारी में लगे समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने गुरूवार को मैनपुरी में जनता को संबोधित किया।

अखिलेश ने करहल में कहा, ‘प्रधानमंत्री हमें 84 की याद दिला रहे हैं, उनके सलाहकार पता नहीं कैसे हैं, वह इतनी दूर क्यों जा रहे हैं, फिरोजाबाद की याद दिला देते हैं। इसमें कांग्रेस के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष ने हम लोगों को हराया था।’ अखिलेश ने कहा कि यह लोग इसलिए याद दिला रहे हैं, क्योंकि इन्होंने चुनाव खो दिया है। इनके पास कोई रास्ता नहीं बचा है।

केंद्र पर कटाक्ष करते हुए अखिलेश ने कहा कि लोग उन पर अनुभव हीनता का आरोप लगाते हैं लेकिन इंसान तभी चलना सीखता है जब वह बार-बार गिरे। सभा को संबोधित करते हुए अखिलेश ने दावा किय़ा कि सपा पहले चरण के मतदानों में भी आगे दिख रही थी और दूसरे चरण में भी आगे दिख रही है।
सभा को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा दो चरणों में तो सपा आगे निकल गई है और अब तीसरे चरण में साइकिल की रफ्तार बढ़ाने की जिम्मेदारी जनता की है। उन्होंने कहा कि साइकिल का मुकाबला कोई नहीं कर सकता। हैण्डल पर हाथ आने से उसकी रफ्तार और बढ़ गई है।

कार्यकाल का बखान

सत्ता पर 5 साल के कार्यकाल के दौरान समाजवादी पार्टी के कामों का बखान करते हुए अखिलेश ने कहा कि 102, 108 एम्बुलेंस पर आम जनता को भरोसा है। इसी तरह 100 नम्बर के जरिए पुलिस के लिए भी व्यवस्था की है। अब पुलिस कभी भी फोन करने पर मौके पर पहुंच रही है, लोगों की मदद कर रही है। इस इतंजाम को आगे और भी अच्छा और बेहतर करना है। 100 नम्बर पर आने वाले दिनों में पुलिस की बुराई की शिकायत भी होगी। लेन-देन करेंगे तो उसे भी वापस कराएंगे।

किए कई वादे

आम जनता को संबोधित करते हुए अखिलेश ने वादा करते हुए कहा कि 5 सालों में आम जनता के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है अगर समाजवादी पार्टी की सरकार दोबारा बनती है तो वो जानवरों के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था करेंगे। सरकार की तरफ से मवेशियों, गायों के लिए चारे का इंतजाम करेंगे, जिससे गाय सुरक्षित रहें। उन्होंने कहा कि अच्छे दिन वालों ने लोगों को तकलीफ में डाल दिया। यह नारा समाजवादियों का नहीं था। भाजपा वाले कहते हैं कि समाजवादी अच्छे दिन नहीं ला पाए। हम कहते हैं कि यह नारा हमारा नहीं भाजपा वालों का था। अच्छे दिन के बहाने लोगों को लाइन में खड़ा कर दिया, मौते हो गई। अब सब पैसा जमा हो गया तो कम से कम हिसाब किताब देना चाहिए कि कितना कालाधन वापस आया।

दुविधा दूर करने के लिए गठबंधन

अखिलेश ने कहा कि हम पर कांग्रेस से दोस्ती के आरोप लग रहे हैं, लेकिन हमने दुविधा दूर करने के लिए समझौता किया। हम किसी को कोई सन्देह नहीं है। इसी तरह कांग्रेस को ज्यादा सीटें देने पर भी हम पर आरोप लगते हैं, लेकिन हमारा दिल बड़ा है, इसलिए यह दोस्ती भी लम्बी चलेगी। अखिलेश ने कहा कि इसलिए सरकार बनाने और साम्प्रदायिक ताकतों को दूर करने के लिए कांग्रेस से समझौता किया है। यह दो कुनबों का नहीं दो युवाओं का गठबन्धन है।