जेवर एयरपोर्ट को मिली हरी झंडी, पीपीपी मॉडल पर तैयार होगा एयरपोर्ट

ग्रेटर नोएडा के जेवर में अब एयरपोर्ट बनने जा रहा है। इस एयरपोर्ट की जानकारी नागरिक उड्डयन मंत्री गजपति राजू ने दी है। इस एयरपोर्ट को बनाने के लिए 3 हजार हेक्टेयर जमीन को पहचाना गया है। वही जमीन के अधिग्रहण में पहले 1 हजार हेक्टेयर जमीन को एयरपोर्ट के लिए तैयार किया जाएगा। जेवर एयरपोर्ट देश का कार्गो हब बनेगा। इस मामले में केंद्रीय मंत्री जयंत सिंहा का कहना है कि नोएडा एयरपोर्ट में आने वाले सालों में लोगों की जरूरत को देखते हुए इसका जेवर एयरपोर्ट का निर्माण पूरा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस एयरपोर्ट को बनाने के लिए 15 से 20 हजार करोड़ रुपए का निवेश से पीपीपी मॉडल के तहत तैयार किया जाएगा। वही इस एयरपोर्ट के बन जाने से आर्थिक गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलेगा।

वही यूपी सरकार की तरफ से मंजूरी मिलने के बाद इसे केंद्र सरकार की तरफ से भी हरी झंडी दिखा दी गई। वही एयरपोर्ट बन जाने के बाद यह दिल्ली एनसीआर का दूसरा एयरपोर्ट कहलाएगा। और जेवर में बनने वाला एयरपोर्ट नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के नाम से पहचाना जाएगा। हालांकि इस एयरपोर्ट के लिए लोगों को काफी लंबा इंतजार करना पड़ेगा। ऐसे में अगले 10 से 15 सालों में यह एयरपोर्ट कई यात्रियों को अपनी मंजिल तक पहुंचाने के लिए तैयार हो जाएगा। जानकारी के हिसाब के इस एयरपोर्ट का मामला पिछले लंबे वक्त से लंबित था। ऐसे में बीजेपी की सरकार आने के बाद इस एयरपोर्ट को केंद्र की तरफ से हरी झंडी दिखा दी गई है।

आपको बता दें की सूबे में मायावती सरकार ने इस एयरपोर्ट को बनाने की मंजूरी दे दी थी। लेकिन बाद में जब सत्ता पलट हुई तो अगले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस फैसले पर रोक लगा दी क्योंकि वह इस एयरपोर्ट को आगरा में बनवाना चाहती थी। लेकिन तब भी केंद्र सरकार की तरफ की तरफ से इसे अभी तक हरी झंडी नहीं दिखाई गई। ऐसे में सूबे में बीजेपी की सरकार आने के बाद सीएम योगी ने इसे फिर से बनवाने का विचार किया है।