वायु सेना ने दी हिंडन एयरबेस के असैन्य इस्तेमाल के लिए सहमति

नई दिल्ली। भाषा भारतीय वायु सेना सरकारी की क्षेत्रीय संपर्क योजना आरसीएस के तहत बीती तारीख 30 अगस्त को अपने हिंडन एयरबेस का असैन्य उड़ानों के लिए इस्तेमाल किये जाने पर सहमत हो गयी है। इसकी जानकारी नागर विमानन सचिव आरएन चौबे ने दी। उनका कहना है कि इससे दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट का दबाव कम होगा। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में हिंडन को दूसरे हवाई अड्डे के रूप में चलाने से इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर उड़ानों के लिए स्लॉट जगह की कमी दूर होगी।

air force, agreed, civilian, use, hindan airbase, rcs
air force agreed use hindan airbase

बता दें कि चौबे ने उद्योग और वाणिज्य संगठन एसोचैम के एक कार्यक्रमरुम में संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि आरसीएस की बोली के दूसरे दौर में हमें दिल्ली हवाई अड्डा के स्लॉट की अच्छी मांग आने की उम्मीद है। हमने महसूस किया कि दिल्ली इंदिरा गांधी एयरपोर्ट लिमिटेड डीआईएएल के लिए सारे स्लॉट उपलब्ध करवाना मुश्किल होगा और हमने इसी के मद्देनजर यह मुद्दा वायु सेना के सामने उठाया। वायु सेना हमारे साथ सहयोग के लिए तैयार है और हमारे लिए अपना एयरबेस उपलब्ध कराने पर राजी है। इसमें सरकार को छूट के लिए समक्ष मुद्दों को शामिल करना होगा।