कर्णप्रयाग में 9 मार्च को होगा मतदान, जानिए क्या है वजह

कर्णप्रयाग। उत्तराखण्ड की 69 विधानसभा सीटों पर आज मतदान हो रहे हैं। युवा मतदान के प्रति जागरूक है और मतदान केंद्रों पर लंबी-लंबी लाइनें होने के बाबजूद मतदान के लिए आ रहे है। एक तरह मतदान का उत्साह देखने को मिल रहा है तो दूसरी तरफ कर्णप्रयाग की गलियां सूनी पड़ी हुई हैं। यहां पर ना तो मतदान केंद्र बनाए गए है और जाहिर सी बात है जब केंद्र नहीं होंगे तो मतदान का प्रयोग कैसे किया जाएगा। दरअसल चमोली जिले के कर्णप्रयाग विधानसभा क्षेत्र में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रत्याशी के सड़क दुर्घटना में निधन हो गया, जिसके कारण चुनाव आयोग ने इस विधानसभा सीट पर होने वाले मतदान की तारीख को बदल दिया है। अब यहां पर 9 मार्च को लोग अपने अधिकार का प्रयोग करेंगे। बसपा प्रत्याशी की मौत के बाद निर्वाचन आयोग द्वारा बसपा को 20 फरवरी तक नामांकन करने को कहा गया है।

जबकि नामांकन पत्र की जांच 21 फरवरी को की जाएगी और 23 फरवरी को नाम वापसी के लिए अंतिम तिथि होगी। मतगणना 11 मार्च को 70 विधानसभा की एक साथ की जाएगी। बसपा प्रत्याशी की मौत के बाद चुनाव स्थगित करने के बारे में जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने बताया कि नामांकन की प्रक्रिया में केवल बसपा प्रत्याशी ही हिस्सा ले सकेंगे।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी राधा रतूड़ी ने बताया कि बसपा की ओर से आयोग से किए गए अनुरोध के बाद भारत निर्वाचन आयोग के सचिव राहुल शर्मा ने कर्णप्रयाग सीट पर 9 मार्च को मतदान कराए जाने के निर्देश जारी किया गया है।