कुछ वक्त बाद लोग पूछेंगे कि क्या देश के पुरूष भी मैच खेलते हैं: सुरेश प्रभु

नई दिल्ली। भारतीय महिला क्रिकेट टीम की दो तिहाई सदस्य भारतीय रेलवे में काम करती हैं और इसलिए केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु गौरवान्वित पिता की तरह महसूस कर रहे हैं जिनकी बेटियों ने अच्छा प्रदर्शन किया। आईसीसी विश्व कप में उप विजेता रही मिताली राज की अगुवाई वाली टीम के सम्मान समारोह में प्रभु ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि आने वाले समय में लोग पूछेंगे कि क्या पुरूष भी क्रिकेट खेलते हैं।

people, men, play, cricket, surash prabhu, Indian Women Cricket Team
surash prabhu

बता दें कि प्रभु ने कहा कि क्रिकेट को पहले केवल पुरूष क्रिकेट के रूप में जाना जाता था लेकिन अब समय तेजी से बदल रहा है और हो सकता है कि 20 से 30 साल बाद कोई यह सोचे कि अच्छा पुरूष भी क्रिकेट खेलते हैं। उन्होंने कहा कि यह वास्तव में बहुत बड़ी उपलब्धि है जिससे पूरा देश खुश है। आपने कप नहीं जीता लेकिन आप लोगों के दिल जीतने में सफल रही। प्रभु ने इस अवसर पर मिताली से पूछे गए उस सवाल और फिर उनके जवाब का भी जिक्र किया जिसमें उनसे पूछा गया था कि उनका पसंदीदा पुरूष क्रिकेटर कौन है। मिताली ने इसके जवाब में कहा था, क्या कभी आपने किसी पुरूष क्रिकेटर से पूछा है कि उनकी पसंदीदा महिला क्रिकेटर कौन है?

साथ ही प्रभु को लगता है कि महिला टीम की सफलता पुरूष क्रिकेटरों के लिए चेतावनी है। उन्होंने कहा कि कृपया सतर्क रहो। लोग अब ज्यादा से ज्यादा महिला क्रिकेट देख रहे हैं। पुरूष क्रिकेटरों को भगवान की तरह पूजा जाता है लेकिन अब महिलाएं भी क्रिकेट में हैं और भविष्य में क्रिकेट में भगवान नहीं बल्कि देवियों की पूजा होगी। कप्तान और उप कप्तान हरमनप्रीत कौर सहित भारतीय टीम की दस खिलाड़ी अभी रेलवे में कार्यरत हैं।