अभिनेत्रियों की साड़ी, सेक्सी या भक्ति

नई दिल्ली। आज का जमाना मार्डन जमाना हैं। आज कल का छोटे वस्त्र पहनने का ट्रेंड भी कुछ ज्यादा ही हैं लेकिन आज भी अगर अपनी अदाओं से कहर ढाना होतो अभिनेत्रिया साड़ी पहनती हैं। एक वक्त था जब साड़ीयों का ट्रेंड था और अभिनेत्रियां साड़ियों में कहर ढाती नजर आती थी।

 

अगर हम 1998 में बनी फिल्म कुछ-कुछ होता हैं जिसमें शाहरुख और काजोल ने अभिनय किया था इस में काजोल की साड़ी हवा में उड़ती हैं और उस पल में वो कूदती हैं नाचती हैं साड़ी एक भारतीय परिधान हैं लेकिन अगर शिफॉन की साड़ी हो तो रिझाने का काम भी करती हैं।

1987 में बनी फिल्म काटे नही कटते दिन ये रात इस फिल्म में श्री देवी और अनिल कपूर ने अभिनय किया हैं इसमें श्री देवी ने नीले रंग की शिफॉन की साड़ी पहनी थी और जिसने भी इसे देखा उसके दिन और रात सच में ही नही कटते थे।


1992 में बनी फिल्म बेटा जिसमें माधुरी दीक्षित और अनिल कपूर ने अभिनय किया था जिसका गाना आज भी फेमस हैं धक धक करने लगा इसमें हाए माधुरी ने क्या साड़ी पहनी थी और ऊपर से शिफॉन की साड़ी में गाना धक धक करना लगा।

90 के दशक का ये वो समय था जब देश आगे बढ़ रहा था देस में बाजार खुल रहे थे।


बाजार खुली तो साड़ी भी आई और तब शिफॉन की साड़ी को पीछे छोड़ आम साड़ीयों से बिल्कुल परे हल्के शिफॉन की प्रिन्ट वाली साड़ी आई और इसकी शुरुआत 2004 में आई फिल्म मै हूं ना में कॉलेज प्रोफेसर का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री सुष्मिता सेन ने किया साड़ी और साथ में स्लीवलेस ब्लाउज हाए इतनी खूबसूरत की बयां भी नही किया जा सकता ये साड़ीयों का हॉट ट्रेंड चला।

इतना ही नही साड़ीयों में हॉट लगने के नाम पर मुहर तो तब लगी जब 2008 में प्रियंका चोपड़ा ने ब्लाउज तो पहना पर नाम मात्र पर कोई नही इसमें प्रियंका क्या लग रही थी ऊपर से उनका गाना कहीं देखी नही मेरे जैसी देसी गर्ल, उन्होंने ये तो बता दिया कि भारतीय परिधान भी किसी परिधान से कम नही।

साड़ीयों का ट्रेंड इतना ही नही आगे बढ़ा 2011 में आई फिल्म रॉ-वन इसमें करीना कपूर ने साड़ी पहना पर इसमें पल्लू गायब था वैसे सही हैं जमानें के साथ लोगों ने भारतीय परिधान साड़ी में भी चेन्जेस करना सीछ ही लिया।