अवैध बूचड़खानों की आग पहुंची बिहार-राजस्थान, नेताओं ने की नारेबाजी

पटना/जयपुर। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद यूपी के तमाम शहरों में अवैध बूचड़खानों पर गाज गिरी है वहीं अब इस गाज का दायरा दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है। यूपी सरकार की इस मुहिम में पहले झारखंड का साथ मिला तो वहीं बुधवार को बिहार और राजस्थान में भी अवैध बूचड़खानों को बंद कराने के सुर तेज होने लगे है।

आज बिहार विधानसभा का माहौल हर दिन की तरह नहीं था। विधानसभा के बाहर भाजपा नेताओं ने इस मुद्दे को लेकर जमकर हंगामा किया और बूचड़खानों को बंद कराने की गुहार लगाते हुए सरकार के खिलाफ आवाज उठाई। दरअसल योगी सरकार के सत्ता में आते ही कई बड़े फैसले लिए गए जिसमें अवैध बूचड़खाने को बंद करना भी शामिल था। इस पहल के चलते ही झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य में सभी बूचड़खानों को बंद करने की मुहिम भी चलाई है वहीं अब बिहार में भाजपा नेताओं ने जिन बूचड़खानों का लाइसेंस जारी किया है उनको रद्द करने की बात कही है।

सरकारी दुकानों पर ही मीट कटवाएं दुकानदार:

जहां एक ओर आज हरियाणा के गुरुग्राम में शिवसैनिको ने 500 दुकानों को जबरन बंद करवाया है तो वहीं दूसरी ओर जयपुर में दुकानदारों को ये आदेश दिया गया है किसी भी प्रकार का मीट अपनी दुकान में नहीं काट सकते क्योंकि उन्हें केवल बेचने का लाइसेंस है। अगर उन्हें कुछ भी कटवाना है तो सरकारी बूचड़खानों में जाकर फीस देकर मीट कटवा सकते है। जिसकी
फीस अब 10 रुपये से बढ़ाकर 1000 रुपये कर दी गई है।