एक वीडियो ने खोली पुलिस महकमे की पोल

मेरठ। मेरठ की महिला थाना प्रभारी इंस्पेक्टर कंचन चौधरी के वीडियो के वायरल होने से पूरे पुलिस महकमे में सनसनी मचा दी है। दरअसल एक वीडियो लीक हुआ है, जो गाजियाबाद के कप्तान, उन्नाव पीटीएस के आइजी और गाजियाबाद की महिला इंस्पेक्टर पर सवाल खड़ा कर रही है। इस वीडियो में इंस्पेक्टर कहती सुनाई दे रही है कि गाजियाबाद के महिला थाने की इंस्पेक्टर आरती सोनी को उन्नाव पीटीएस के आइजी प्रेम प्रकाश की सिफारिश पर चार्ज दिया गया है।

इस वीडियो में कंचन चौधरी ने आईजी और गाजियाबाद की महिला थाना प्रभारी के चरित्र पर भी गम्भीर आरोप लगाए है। इस वीडियो में अधिकारियों के लिए जातिवाद का भी जिक्र किया गया है। वायरल हुआ यह वीडियो ना बल्कि अनुशासनहीनता को दिखा रहा है बल्कि पुलिस महकमे को बदनाम कर रहा है ।

वीडियो में कंचन चौधरी यहां तक कह रही हैं कि खुद गाजियाबाद के कप्तान ने उनसे कहा था कि मेरे ऊपर दबाव है। इसलिए आरती को चार्ज दे रहे हैं। मेरठ की महिला इंस्पेक्टर कंचन चौधरी की इस वायरल वीडियो ने पुलिस महकमे में थाने के चार्ज देने की हकीकत को बयां कर दिया है। कंचन का दावा है कि चार्ज काबलियत पर नहीं बल्कि सिफारिश से मिलता है। उन्होंने बताया गया कि वह नोएडा से गाजियाबाद तैनाती हुई थी। कप्तान दीपक कुमार ने भाई की शादी के बाद चार्ज देने के लिए कहा था।

यूपी की तमाम छोटी-बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

शादी से लौटे तो बुलाकर कह दिया कि आइजी प्रेम प्रकाश की सिफारिश आई है, दबाव के चलते महिला थाने का चार्ज आरती सोनी को दिया जा रहा है। उसके बाद वहां से डीआइजी ने मेरठ के लिए स्थानांतरण कर दिया। चुनाव तक ही मेरठ में रहना है, उसके बाद आगरा में तैनाती कराएंगी। कंचन चौधरी की वायरल हुई वीडियो अफसरों के दबाव की पोल खोल रही है। एक तरफ यह वीडियो कई राज पर से पर्दा उठा रहा है तो दूसरी तरफ इस मामले में अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं।

राहुल गुप्ता, संवाददाता