‘खिड़की को 2 महीनों में मिलीं 7600 कहानियां’

फिल्म निर्माता उमेश शुक्ला, जोकि अपनी फिल्म ओह माय गॉड! से चर्चित हुये हैं, वर्तमान में आगामी शो खिड़की को लेकर काफी व्यस्त नजर आ रहे हैं। इस शो का प्रसारण सब टीवी पर किया जायेगा और इसका निर्माण उमेश, जेडी मजेठिया और आतिश कपाड़िया द्वारा किया गया है।

Umesh Shukla

यह साप्ताहिक एपिसोडिक सीरीज दर्शकों द्वारा भेजी गई असली जिंदगी की मजेदार कहानियों से प्रेरित है। एक साक्षात्कार में शुक्ला ने हमारे साथ अपना अनुभव साझा किया:

सवाल 1. क्या आपको अपने शो के लिए दर्शकों से कई कहानियां मिली हैं?

जवाब: हमने कभी उम्मीद नहीं की थी कि हमें महज दो महीनों में लोगों से 7,600 कहानियां मिलेंगी। हमारे पास अच्छे लेखकों की एक टीम है जिन्होंने कहानियों का चुनाव किया। इस शो की परिकल्पना तैयार करने का सबसे अच्छी बात यह है कि यह सभी असली जिंदगी की कहानियां हैं और आप इस निष्कर्ष पर पहुंचेंगे कि ‘सच्चाई फिक्शन की तुलना में अनजान होती है।‘ सभी के लिखने का अंदाज एकदम निराला है।

सवाल 2. इनमें से कितनी कहानियों को एपिसोड में बदलने में सक्षम हुये हैं?

जवाब: जब जेडी मजेठिया ने मुझसे कुछ अलग हटकर करने के लिए संपर्क किया, तो मुझे लगा कि वह जोखिम उठाने के लिए तैयार हैं। हमें कई ऐसी कहानियां मिली जिन्होंने हमारे दिल को छुआ और हमें हंसने पर मजबूर किया। कुछ ऐसी चैंकाने वाली कहानियां भी थीं जिन्हें हमने एपिसोड में तब्दील किया और अब वे काफी हास्यप्रद लगती हैं।

सवाल 3. क्या आपको प्राप्त कंटेंट को शाॅर्टलिस्ट करने में किसी मुश्किल का सामना करना पड़ा?

जवाब: जब कोई अपनी जिंदगी की कहानी भेजता है, तो यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि उसे ऐसे नहीं देखना चाहिये जैसे आप उसके अनुभव का मजाक उड़ा रहे हों। लेकिन हम अपने लेखकों की वजह से यह अंतर भरने में सफल रहे। कुछ लोगों ने महज 1-2 लाइनों में अपनी कहानियां भेजी, और ऐसी कहानी को 2-3 एपिसोड में परिवर्तित करना कठिन था। उदाहरण के लिए, रेगुलर शो में हर बार एक ही सेटिंग होती है लेकिन हर नई कहानी के साथ, सेटिंग में बदलाव करना पड़ता है।