2G स्पैक्ट्रम में आरोपियों को देना होगा लिखित जवाब

टू जी स्पैक्ट्रम घोटाला के में बुधवार को अंतिम दिन है। संबंधित केस के आरोपियों को लिखित में जवाब देने के लिए कहा गया है। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के स्पेशल टू-जी जज ओपी सैनी ने कहा है कि इस मामले पर फैसला 25 अगस्त से पांच सितंबर के बीच आएगा। आपको बता दें कि पिछले 26 अप्रैल को कोर्ट ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने फैसला सुनाने का आदेश दिया था। लेकिन बुधवार को कोर्ट ने कहा कि फैसला 25 अगस्त से पांच सितंबर के बीच आएगा।


पिछली सुनवाई में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा ने टू-जी अलाटमेंट की तुलना चीन से युद्ध के समय बिजली आपूर्ति के नियम में किए गए अचानक बदलाव से की थी। इस मामले की सुनवाई पिछले छह साल से हो रही है। टू-जी घोटाले का ट्रायल पिछले छह साल से रोजाना चल रही थी। टू-जी घोटाला यूपीए सरकार के दौरान हुआ था जिस समय ए राजा केंद्रीय दूरसंचार मंत्री थे।

दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने आरोपियों और सीबीआई की तरफ से दलीलें सुनी। जिसके बाद संबंधित मामले में फैसला सुरक्षित रखा गया है। वही इस केस में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम की राज्यसभा सदस्य कनिमोझी के खिलाफ मुकदमा चल रहा है। बता दें कि ए राजा ने मामले में अपनी सफाई देते हुए कहा है कि स्पैक्ट्रम देने को लेकर कैबिनेट और पीएम ने फैसला लिया था।