चारधाम यात्रा के शुरूआत में 20 दिन में 17 मौतें

देहरादून। देवभूमि उत्तराखंड में होने वाली 4 धाम यात्रा की शुरूआत हो चुकी है। यात्रा महज 20 ही पूरे कर पाई है। ऐसे में अब तक 17 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है। आंकड़ों की माने तो सबसे ज्यादा मौते केदारनाथ यात्रा मार्ग पर हुई हैं। अगर श्रद्धालुओं की संख्या के बारे में कहा जाये तो केदारनाथ में अब तक 1 लाख 8 हजार लोग यात्रा कर चुके हैं। वहीं बद्रीविशाल में तकरीबन डेढ़ लाख की संख्या पार हो चुकी है। आंकड़े बता रहे हैं कि केदारनाथ पैदल मार्ग जो कि 18 किलोमीटर लम्बा है उसपर तकरीबन 8 श्रद्धालुओं का निधन हुआ है वही बद्रीनाथ मार्ग पर तीन और गंगोत्री-यमुनोत्री मार्ग पर 5 का निधन हुआ है।

स्वास्थय विभाग के अधिकारियें के मुताबिक 1 यात्री के सिर में चोट की वजह से मृत्यु हुई है तो बाकी सभी यात्री की मौत ह्रदयगति रूकने के चलते हुई है। मृतक यात्रियों में 10 पुरूष और बाकी महिलायें है। ये यात्री राजस्थान, केरल, गुजरात और महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। स्वास्थ्य विभाग की माने तो पिछले साल 6 माह की यात्रा में ये आंकड़ा महज 39 था लेकिन इस बार यात्रा के 20 दिन की शुरूआत में 17 जाने जाना आने वाले समय के लिए खतरनाक है। हांलाकि सरकार की ओर से पिछले अनुभवों के आधार पर इंतजाम किए गये हैं।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से लगातार आने वाले श्रद्धालुओं को डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, सांस संबंधी परेशानियों के मरीजों को खासतौर पर जरूरी दवाएं साथ रखने के साथ ज्यादा उम्र के लोगों को दिन में ही यात्रा करने की हिदायतें दी जा रही हैं। इसके अलावा साधारण जूतों की जगह गर्म जूतों के प्रयोग करने के लिए भी निर्देशित किया जा रहा है। क्योंकि इन इलाकों का तापमान जीरो से नीचे कभी भी जा सकता है। इसके साथ ही यात्रा में उपवास ना करने और थकावट पर आराम करने के साथ ऑक्सीजन की कमी होने पर हेल्थ चेक पोस्ट से मदद मांगने की हिदायतें दी जा रही हैं।