कालचक्र पूजा की ड्यूटी में तैनात 11 पुलिसकर्मी हुए निलंबित

गया। बिहार के बोधगया में कलचक्र पूजा की ड्यूटी पर तैनात 11 पुलिसकर्मी को कार्य में कोताही के कारण निलंबित कर दिया गया है। पुलिस अधिकारी गरिमा मलिक ने शनिवार को इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि महाबोधि मंदिर में चल रही कालचक्र पूजा की तैयारियों और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने पर पता चला कि मौके से अवर निरीक्षक (एसआई) और सहायक अवर निरीक्षक (एएसआई) स्तर के 11 अधिकारी अनुपस्थित थे जिसके बाद उन्हें तुरंत निलंबित कर दिया गया।

वरीय पुलिस अधीक्षक गरिमा मल्लिक ने शनिवार को मीडीया से बात करते हुए कहा कि 02 जनवरी से 14 जनवरी तक चलने वाले बौद्धों के सबसे बड़े आयोजनों में से एक कालचक्र पूजा की तैयारी अपने अंतिम चरण में है। इसी को लेकर बोधगया में सुरक्षा को लेकर पुलिस बलों की तैनाती की गई है। इसकी क्रम में जब शुक्रवार रात बोधगया पहुंची तो वहां 11 पुलिस (एसआई-एएसआई) अनुपस्थित पाए गए, जिन्हे निलंबित कर दिया गया।

विदित हो कि कालचक्र पूजा में घोषणा के अनुसार दो लाख से अधिक बौद्ध श्रद्धालुओं के शामिल होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। पूजा आयोजन समिति और जिला प्रशासन स्तर से तैयारी भी उसी स्तर से की गई है लेकिन पूजा शुरू होने में अब तीन दिन बाकी हैं। धर्मगुरु भी बोधगया प्रवास पर आ चुके हैं लेकिन बाजार की भीड़ इस बात का एहसास नहीं कराती। वैसे छिटपुट श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला जारी है। धर्मगुरु दलाई लामा तिब्बत मंदिर से कालचक्र मैदान पिछले द्वार से निकलकर प्रवेश करेंगे। धर्मगुरु के आवागमन वाले मार्ग को पूजा आयोजन समिति द्वारा फूलों से आच्छादित किया जाएगा। इसके लिए कोलकाता से विभिन्न किस्म के फूल मंगवाए गए हैं। आयोजन समिति के सदस्य ने बताया कि धर्मगुरु के आवागमन वाले मार्ग के अलावे मुख्य मंच को गेंदा, गुलाब, ग्लेडिस, आरकेच, चरबेरा, पिकेशिंग, लीली, बंगलोर गुलाब, एरिका पोप, इलायची पत्ता, रेड स्टीक, गुलदाउदी व डालिया से सुसज्जित किया जाएगा।