वियतनाम के फाइटर पायलट्स को सुखोई उड़ाना सिखाएगा भारत

नई दिल्ली। अपने तीन दिवसीय भारतीय दौरे पर आए वियतनाम के रक्षामंत्री जनरल एनगो जुआन लिच ने भारतीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के साथ कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। इन समझौतों के तहत अगले साल से भारत वियतनाम के फाइटर पायलट्स को सुखोई-30 एमकेआई उड़ाना सिखाएगा। बता दें कि वियतनामी रक्षामंत्री के साथ 30 सदस्यीय मिलिड्री भी भारत आया है। गौरतलब है कि दोनों देश एशिया-प्रशांत क्षेत्र में चीन के आक्रामक व्‍यवहार को लेकर चिंतित हैं और मिलिट्री ट्रेनिंग में धीरे-धीरे सहयोग बढ़ा रहे हैं।

viyatnam

वियतनाम के रक्षामंत्री जनरल एन. जुआन लिच ने मंगलवार को यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया है कि मोदी ने मुलाकात के दौरान गत सितम्बर महीने में अपने वियतनाम दौरे को याद किया, जब द्विपक्षीय संबंध समग्र सामरिक साझेदारी में क्रमोन्नत हुए थे। बयान के अनुसार, मोदी ने कहा, “वियतनाम भारत की ‘एक्ट ईस्ट नीति’ का एक प्रमुख स्तंभ है।”

बयान में कहा गया है, “जनरल लिच ने प्रधानमंत्री को द्विपक्षीय रक्षा सहयोग में हुई प्रगति से अवगत कराया। प्रधानमंत्री ने कहा कि रक्षा के क्षेत्र में भारत और वियतनाम के द्विपक्षीय संबंध एक दीर्घकालिक और परस्पर लाभकारी हैं और उन्होंने दोहराया कि भारत रक्षा संबंधों को आगे और मजबूती प्रदान करने को संकल्पित है। मोदी ने कहा कि भारत और वियतनाम के बीच सभी क्षेत्रों में घनिष्ठ सहयोग पूरे क्षेत्र की स्थिरता, सुरक्षा और समृद्धि में योगदान करेगा। मोदी के वियतनाम दौरे के दौरान भारत ने 50 करोड़ डॉलर के रक्षा ऋण की पेशकश की थी, जिसका कुछ अंश अपतटीय गश्ती नौकाओं के निर्माण के लिए इस्तेमाल होगा। वियतनाम उन देशों में एक है, जिसका चीन के साथ दक्षिण चीन सागर को लेकर विवाद है।